राम जेठमलानी की जीवनी| Ram Jeth Malani Biography in Hindi

About- राम जेठमलानी Ram Jeth Malani एक भारतीय वकील हैं। उन्होंने बहुत कम उम्र में एल.एल.बी की डिग्री प्राप्त की। जब वह 17 साल का था, तो उन्होंने एल.एल.बी. की डिग्री हासिल की।राम बुलचंद मालानी सबसे प्रसिद्ध आपराधिक वकील हैं वह वह सबसे कम उम्र के व्यक्ति हैं जो बहुत कम उम्र में कानून की डिग्री प्राप्त कर चुके हैं।

राम जेठमलानी ने भारत के विभाजन तक कराची में कानून का अभ्यास किया। राम जेठमलानी बेहद जिद्दी स्वभाव के माने जाते हैं। वे जब तक किसी मुकदमे को जीत नहीं लेते वे उसमें जी-जान से लगे रहते हैं। राम जेठमलानी आजाद भारत के सबसे महंगे वकीलों में से एक हैं, ये किसी केस की पैरवी के लिए एक तारीख पर जाने के बदले करोड़ रुपए तक की फीस लेते हैं।

राम जेठमलानी उच्च प्रोफाइल से सम्बन्धित मामलों के मुकदमे की पैरवी करने के कारण विवादास्पद रहे और उसके लिए उन्हें कई बार कड़ी आलोचना का सामना भी करना पड़ा। यद्यपि वे उच्चतम न्यायालय के सबसे महँगे वकील हैं इसके बावजूद उन्होंने कई मामलों में नि:शुल्क पैरवी की।

राम जेठमलानी ऐसे वकील हैं जो हमेशा लहर के ख़िलाफ़ ही तैरते नज़र आए हैं।

Early Life-(प्रारंभिक जीवन)

राम जेठमलानी का जन्म 14 सितंबर 1923 को शिककरपुर में हुआ था। उनका जन्म बूलचंद परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम गुरमुखदास जेठमलानी  है । उनकी माता का नाम पारबाती बूलचंद मालानी है।उन्होंने स्कूल में एक डबल पदोन्नति की और 13 वर्ष की उम्र में मैट्रिक पूरा किया।उन्होंने एससी शाहानी लॉ कॉलेज, कराची से बॉम्बे विश्वविद्यालय से एलएलबी की डिग्री हासिल की।

18 साल की उम्र में उनकी शादी दुर्गा से हुई थी। लेकिन 1947 में उन्होंने रत्न शाहानी से भी विवाह किया। रत्न शाहानी पेशे से एक वकील हैं। आज उनके परिवार में पत्नियां और चार बच्चे शामिल हैं – तीन, दुर्गा (रानी, शोभा, महेश) और एक बच्चा  रत्न द्वारा हुआ।

Career- (व्यवसाय)

राम जेठमलानी ने 17 वर्ष की उम्र में सिंध के मुख्य न्याय द्वारा पारित किए गए विशेष प्रस्ताव के द्वारा अपना कैरियर शुरू किया और उसे अभ्यास करने की अनुमति दी। राम जिथ मलानी ने अपने जीवन में सिंध के प्रोफेसर के रूप में शुरुआत की।

फिर उन्होंने अपने वरिष्ठ मित्र श्री ए. के ब्रोही के साथ मुकदमेबाजी में करियर शुरू किया।1948 में जब कराची में दंगा हुआ, तो वह अपने दोस्त ए.के. ब्रोही की सलाह पर भारत गए जहां बाद में पाकिस्तान के लॉ मिनस्टर बने।  1948 में उन्होंने बॉम्बे में भारत में अभ्यास शुरू कर दिया।1953 में वे स्नातक और स्नातकोत्तर अध्ययन के लिए प्रोफेसर के रूप में होवरमेंट लॉ कॉलेज में भी शामिल हुए।

के.एम. नानावती बनाम महाराष्ट्र के मामले में उनकी उपस्थिति के बाद, तस्कर के वकील के रूप में अपनी छवि पूर्व की गई। लेकिन उस काउंटर ने उत्तर दिया कि वह केवल अपनी कर्तव्य का प्रदर्शन कर रहा था
उसके बाद वह कई उच्च प्रोफ़ाइल वाले मामलों में शामिल रहे हैं –

– 2011 में मद्रास उच्च न्यायालय में राजीव गांधी हत्याकांड की रक्षा।
– इंदिरा गांधी हत्यारों का बचाव
अंडरवर्ल्ड डॉन हजी मस्तन केस
– हवाला घोटाले मामले में लालकृष्ण आडवाणी रक्षा
– आसाराम बापू रक्षा झोदपुर में यौन उत्पीड़न मामले

जेसिका लाल मर्डर केस में जेठमलानी मनु शर्मा की तरफ से पेश हुए थे।इतने सारे उच्च प्रोफ़ाइल वाले मामले के बाद राम जेठमलानी ने कानूनी पेशे से 9 सितंबर 2017 को अपनी रिटायरमेंट की घोषणा की।

Politics- (राजनीति)

आपातकाल के दौरान राम जेठमलानी को गिरफ्तारी से बचने के लिए भागकर कनाडा जाना पड़ा जहां वो दस महीनों तक रहे। ऐसा इसलिए क्योंकि उन्होंने तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की जमकर आलोचना की थी और उनके खिलाफ केरल की एक निचली अदालत ने ग़ैर ज़मानती वॉरंट जारी कर दिया था । पालखीवाला की अगुवाई में 300 से अधिक वकील उनके लिए दिखाई दिए।

उसके बाद उच्च न्यायालय ओफ़ बॉम्बे द्वारा रहने का आदेश जारी किया गया था।बाद में ज़बलपुर के अतिरिक्त जिला मेजेस्टेट द्वारा निभाया गया था। तब राम जैथ मालानी ने खुद को कनाडा में आपातकाल के खिलाफ अपने कैम्पैगिन ले जाने के लिए उकसाया।दस महीने बाद जब आपातकाल उठाया गया था तो अपना उम्मीदवार बॉम्बे उत्तर-पश्चिम निर्वाचन क्षेत्र से भर गया था।

1977 में, जनरलों के चुनाव में उन्होंने लोक सभा चुनाव में बॉम्बे से लॉ मिनस्टर के रूप में सेवा की और उन्होंने संसद के सदस्य के रूप में राजनीतिक कैरियर शुरू किया।1988 में वह राज्यसभा सदस्य बन गए। 1996 में वह केंद्रीय कानून मंत्री और कंपनी मामलों के मंत्री बने।

उन्हें 1998 में एक पोर्टफोलियो और शहरी चक्कर के केंद्रीय मंत्री और रोजगार दिया गया था। उन्होंने भारत की संसद के लिए अपनी उम्मीदवारी भी दायर की थी ” मैं अपनी सेवाओं की पेशकश करने के लिए राष्ट्र को देना हूं ”।उन्होंने भगत मुक्ति मोर्चा का भी शुभारंभ किया और पावित्र हिंदुस्तान कज़गम नामक अपनी स्वयं की राजनीतिक पार्टी की भी शुरूआत की।

2010 में उन्हें भाजपा द्वारा राम जेठमलानी  राज्यसभा टिकट दिया गया था। सन 2012 में उन्होंने ‘भारतीय जनता पार्टी’ के नेताओं पर यू.पी.ए. सरकार के दौरान हुए घोटालों पर चुप्पी साधने का आरोप लगाते हुए तत्कालीन पार्टी अध्यक्ष नितिन गडकरी को पत्र लिखा जिसके उपरान्त मई 2013 में उन्हें 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया गया।

फिर मई 2013 में भाजपा ने विरोधी पक्षीय बयानों को बताते हुए छह साल के लिए राम जेथ मलयानी को निष्कासित कर दिया।अक्टूबर 2013 में डिफर्मेशन प्रभार बीजेपी के नेता के खिलाफ तैयार किया गया था ताकि वह इस तरह के कथानक बयान  दिया की वह पार्टी के सदस्य होने के योग्य नहीं हैं और राम जीयाल मालानी ने 50 लाख रुपये की मांग की।

हाल ही में राम जेठमलानी ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की ओर से वित्त मंत्री अरुण जेटली के खिलाफ मानहानि का केस भी लड़ चुके हैं। हालांकि इसी दौरान फीस को लेकर उनका केजरीवाल से कुछ आरोप-प्रत्यारोप भी हुआ था।

Awards- (पुरस्कार)

-अंतर्राष्ट्रीय न्यायिक पुरस्कार
-विश्व शांति कानून पुरस्कार
-1977 में उन्होंने फिलीपींस में आधिकारिकता के खिलाफ उनकी लड़ाई के लिए विश्व शांति के कानून द्वारा स्थापित मानव     अधिकार पुरस्कार प्राप्त किया

Books (पुस्तकें)

-बिग ईगो, स्मॉल मेन, हर आनंद प्रकाशन
-विरोधाभास कानून, 1 9 56
-जस्टिस सोवियत शैली
-द रिबेल: सुसान एडेलमैन द्वारा ‘राम जेठमलानी की जीवनी’

 

 

Muskan

मुस्कान इंडियन दिलवाले टीम की यूट्यूब टीम की हेड हैं। इन्हे बॉलीवुड से संबंधित लेख लिखना अच्छा लगता हैं। इन्हे लिखने के साथ एक्टिंग का भी हुनर हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *